www.stingofcrime.com / stingofcrime@gmail.com R.N.I. No.: DELHIN/2013/53661
  सम्पादक: अमित कुमार सिंह

स्टिंग ऑफ़ क्राइम
                        राजधानी दिल्ली से प्रकाशित राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक समाचार पत्र
वर्ष: 09 अंक: 11

15 मार्च से 21 मार्च 2021

प्रत्येक सोमवार मूल्य: 2.00 रूपये मात्र पृष्ठ: 4

अमरनाथ यात्रा की तारीखों का ऐलान:28 जून से 22 अगस्त तक होंगे बाबा बर्फानी के दर्शन, 1 अप्रैल से देशभर की 446 बैंक ब्रांचों में होगा रजिस्ट्रेशन

    बाबा बर्फानी के भक्तों के लिए अच्छी खबर है। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड ने यात्रा की तारीखों का ऐलान कर दिया है। इस बार अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू होकर 22 अगस्त को खत्म होगी। यात्रा के लिए एडवांस रजिस्ट्रेशन 1 अप्रैल से शुरू होगा, जिसे PNB, जम्मू एंड कश्मीर बैंक के अलावा YES बैंक की देशभर में मौजूद 446 ब्रांचों से करवाया जा सकता है।
    बोर्ड ने शनिवार को बैठक में ये फैसला लिया। सुरक्षा के चलते इस बार यात्रा 56 दिन तक चलेगी। आषाढ़ चतुर्थी से लेकर रक्षा बंधन तक श्रद्धालु बाबा अमरनाथ के दर्शन कर सकेंगे। सूत्रों के मुताबिक इस बार यात्रा सिर्फ बालटाल रूट से कराई जा सकती है। यात्रा का पारंपरिक रास्ता पहलगाम, चंदनवाड़ी, शेषनाग, पंचतरणी से होकर जाता है।
    श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के चेयरमैन और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने शनिवार को राजभवन में बोर्ड सदस्यों की बैठक की। इसमें यात्रा के शेड्यूल के साथ ही कई जरूरी मुद्दों पर चर्चा हुई। कई राज्यों में कोरोना संक्रमण की वापसी के कारण यात्रा के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराया जाएगा। बैठक में श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने पुजारियों की सैलरी 1000 से बढ़ाकर 1500 रुपए रोजाना करने का फैसला किया है।
पिछले साल कोरोना की वजह से रद्द हो गई थी यात्रा
    कोरोना के चलते पिछले साल अमरनाथ यात्रा को लेकर काफी खींचतान हुई थी। जम्मू के राजभवन में 22 अप्रैल को हां-ना-हां-ना का दौर चला था। पहले राजभवन ने अमरनाथ यात्रा निरस्त करने की जानकारी दी, लेकिन बाद में उस प्रेस रिलीज को ही कैंसिल कर दिया। घंटेभर बाद एक और प्रेस रिलीज में सफाई देते हुए कहा गया कि कोरोना के चलते तय तारीखों में यात्रा करवाना संभव नहीं है। हालांकि तब भी यात्रा होगी या नहीं, इस पर बाद में फैसला करने की बात कही गई थी। हालात को देखते हुए आखिरकार यात्रा रद्द कर दी गई थी।

ममता बनर्जी पर हमले का मामला:स्पेशल ऑब्जर्वर्स ने चुनाव आयोग को सौंपी रिपोर्ट, कहा- CM पर हमले के कोई सबूत नहीं मिले, EC कल जारी कर सकता है बयान

    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और TMC प्रमुख ममता बनर्जी पर नंदीग्राम में कथित हमले को लेकर पिछले 12 घंटे में दो रिपोर्ट आ गई है। पहली रिपोर्ट सुबह बंगाल के चीफ सेक्रेट्री ने दी थी, जिसमें ममता को लगी चोट का कारण कार का दरवाजा बताया गया था।
    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, देर शाम स्पेशल ऑब्जर्वर विवेक दुबे और अजय नायक ने भी अपनी जांच रिपोर्ट चुनाव आयोग (EC) को दी है। इसमें बताया गया है कि नंदीग्राम में ममता बनर्जी के साथ हुई घटना एक हादसा था। उनके काफिले पर किसी भी तरह के हमले के कोई सबूत नहीं मिले। ममता के साथ उस दिन पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था थी।
    सूत्रों के मुताबिक, बंगाल के मुख्य सचिव और चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त दो विशेष ऑब्जर्वर की रिपोर्ट पर इलेक्शन कमीशन रविवार को बयान जारी कर सकता है। अभी आयोग को बंगाल के मुख्य सचिव के विस्तृत रिपोर्ट का इंतजार है।
    इससे पहले ममता बनर्जी के ऊपर हमले को लेकर पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलापन बंदोपाध्याय की रिपोर्ट पर नाराजगी जताते हुए चुनाव आयोग ने उनसे विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है। मुख्य सचिव की रिपोर्ट में कहा गया है कि ममता के पैर में चोट उनकी कार के दरवाजे से लगी थी। हालांकि उन्होंने अपनी रिपोर्ट में यह स्पष्ट नहीं किया कि ममता को कार के दरवाजे से चोट आखिर कैसे लगी। इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें दोबारा विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा।

बिटकॉइन का नया रिकॉर्ड:सबसे महंगी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन के एक यूनिट की कीमत 44 लाख रुपए हुई, एक साल में 1100% का इजाफा

    दुनिया की सबसे महंगी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन लगातार अपनी कीमत का रिकॉर्ड लेवल ऊंचा कर रही है। शनिवार को पहली बार इसकी कीमत 60 हजार डॉलर के पार पहुंच गई। यानी एक बिटकॉइन की कीमत अब करीब 44 लाख रुपए (60,322 डॉलर) है। 3 महीने पहले यह 19,860 डॉलर यानी करीब 14 लाख 62 हजार रुपए प्रति यूनिट के लेवल पर थी।
    दिसंबर 2017 में बिटकॉइन 19,873 डॉलर प्रति यूनिट तक पहुंची थी। तब के हिसाब से एक बिटकॉइन की कीमत करीब 13 लाख रुपए थी। मार्च, 2020 में एक बिटकॉइन की कीमत 5 हजार डॉलर थी। यानी एक साल में इसकी कीमतों में 1100% से ज्यादा इजाफा हुआ है। पिछले 24 घंटे में इसकी कीमतें 5.40% चढ़ी हैं। हालांकि, दूसरी क्रिप्टोकरेंसी में भी तेजी है। इथर में करीब 6% और स्टेलर में 4% की तेजी रही।
    कोरोना के बाद मार्च में बिटकॉइन की कीमत 4000 डॉलर प्रति यूनिट के नीचे चली गई थी। डॉलर के कमजोर होने की वजह से इसने तेजी से वापसी की। अमेरिका की ब्रोकरेज और ट्रेडिंग फर्म eToro के मैनेजिंग डायरेक्टर गे हिर्ष का कहना था कि इंडिविजुअल और असेट मैनेजर बड़ी संख्या में बिटकॉइन की खरीदारी कर रहे हैं। इस समय करीब 365 बिलियन डॉलर के बिटकॉइन सर्कुलेशन में हैं।
    दुनिया की सबसे बड़ी असेट मैनेजमेंट फर्म ब्लैकरॉक (BLK) ने अनुमान जताया है कि सेफ हेवन चॉइस के तौर पर बिटकॉइन एक दिन गोल्ड की जगह ले सकता है। इसे भी बिटकॉइन की कीमतों में तेजी की वजह माना जा रहा है। छोटी क्रिप्टोकरेंसी में शुमार इथेरियम, XRP, लाइटकॉइन और स्टेलर की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से भी बिटकॉइन में तेजी आ रही है।
    इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला ने हाल में बिटक्वॉइन में निवेश किया है। कंपनी आने वाले वक्त में बिटक्वॉइन को भी पेमेंट ऑप्शन के रूप में स्वीकार करेगी। टेस्ला ने पिछले महीने अपनी इन्वेस्टमेंट पॉलिसी अपडेट की है। इसमें कंपनी ने बताया है कि वो कुछ ऑल्टरनेटिव रिजर्व एसेट्स में भी निवेश करेगी। इनमें डिजिटल एसेट्स, गोल्ड बुलियन, गोल्ड एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड भी शामिल हैं।
    इसके लिए कंपनी ने 1.5 बिलियन डॉलर यानी करीब 11 हजार करोड़ रुपए बिटक्वॉइन में इन्वेस्ट किया है। आगे भी इस तरह के कई डिजिटल एसेट्स में निवेश किया जाएगा। ट्विटर भी अपने कर्मचारियों और वेंडर्स को बिटक्वॉइन में पेमेंट करने के बारे में सोच रहा है।
    बिटकॉइन की खोज 2008 में हुई थी। आधिकारिक रूप से बिटकॉइन 2009 में लॉन्च हुआ था। भारत में अभी बिटकॉइन समेत किसी भी क्रिप्टोकरेंसी को कानूनी मान्यता नहीं मिली है।

एंटीलिया केस में स्कॉर्पियो मालिक की मौत का मामला: NIA ने सचिन वझे को गिरफ्तार किया, कोर्ट ने शनिवार को ही अग्रिम जमानत याचिका खारिज की थी

    विवादों में घिरे मुंबई पुलिस के असिस्टेंट इंस्पेक्टर सचिन वझे को NIA की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। NIA ने उन्हें एंटीलिया के पास विस्फोटकों से भरी कार के कनेक्शन में अरेस्ट किया है। इससे पहले, ठाणे की सेशन कोर्ट ने शनिवार को उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। कोर्ट ने कहा था कि प्रथमदृष्टया उनके खिलाफ कुछ सबूत मिले हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए वझे ने शुक्रवार को अग्रिम जमानत की याचिका दायर की थी। मामले की अगली सुनवाई 19 मार्च को होगी।
    उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर 'एंटीलिया' के बाहर से बरामद हुई स्कॉर्पियो कार के मालिक मनसुख हिरेन की मौत के मामले में वझे पर आरोप लगे हैं। महाराष्ट्र के गृह विभाग के आदेश पर मुंबई पुलिस के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वझे को क्राइम ब्रांच से हटा दिया गया। उन्हें नागरिक सुविधा केंद्र में भेजा गया है। यह आदेश शुक्रवार 12 मार्च देर शाम जारी किया गया। वझे ने भी खुद को क्राइम ब्रांच से हटाने की पुष्टि की है। 10 मार्च को विपक्ष के हंगामे के बाद वझे का ट्रांसफर करने की बात गृह मंत्री अनिल देशमुख ने की थी।
1   2   3   4